Press "Enter" to skip to content

प्रोटोकॉल तोड़ देर रात तक विकास कार्यों का जायजा ले रहे थे प्रधान सेवक – वाकई ये शासक नहीं सेवक हैं

 

भारत में पुराने समय में ऐसा होता था, जब राजा खुद भेष बदलकर या रात के अंधरे में अपने देश में घूमते थे, और देश में चल रहे कार्य को देखते और समझते थे

अक्सर बाबू प्रधानमंत्री या मुख्यमंत्री तक सही चीज पहुंचाते ही नहीं, भारत में पुराने समय में भी ऐसा ही था, इसी कारण राजा खुद निकला करते थे प्रजा और देश का हाल देखने के लिए

पर मॉडर्न भारत में कल्चर ख़त्म सा हो गया था, पर अब देश के पास एक ऐसा प्रधानमंत्री है, एक ऐसा शासक है जो सच में शासक कम और सेवक अधिक है, हम बात कर रहे है प्रधानमंत्री मोदी की

पिछले दिनों प्रधानमंत्री मोदी पूर्वी उत्तर प्रदेश के दौरे पर थे, और वाराणसी में PM ने आधी रात के बाद उमस भरी गर्मी में आराम करना नहीं बल्कि जनता के लिए हो रहे काम को देखना पसंद किया

जब देश के लोग, और खुद वाराणसी के अधिकतर लोग सो रहे थे, तो प्रोटोकॉल तोड़कर प्रधानमंत्री मोदी और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी वाराणसी में घूमकर हो रहे काम को देख रहे थे, अब और कैसा प्रधान सेवक चाहिए

Loading...

इस देश में मोदी के आने के बाद से बड़े पैमाने पर बदलाव हुए है, पहला बदलाव ये की लगातार 4 साल से भारत चीन से आगे है, और भारत की दुनिया में छवि भी मजबूत हुई है, ये सब ऐसे ही नहीं हो गया है, ये सब देश के PM के लगन और मेहनत के कारण हुआ है

और इसी कारन खुद पाकिस्तान में प्रधानमंत्री मोदी के काम की पाकिस्तानी नेता चुनाव अभियान में तारीफ करते है और कहते है की हमे भी वैसा काम करना चाहिए

Mission News Theme by Compete Themes.