Press "Enter" to skip to content

कट्टरपंथियों का ऐलान – हर जिले में शरिया अदालत, अम्बेडकर के संविधान को कुचलने को आमादा

कट्टरपंथियों का ऐलान - हर जिले में शरिया अदालत
कट्टरपंथियों का ऐलान – हर जिले में शरिया अदालत

हर जिले में शरिया अदालत : ये ऐलान कट्टरपंथी मुस्लिम NGO, आल इंडियन मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने किया है – इस संगठन का कहना है की अब हर जिले में ये शरिया अदालत खोलेंगे

हर जिले में शरिया अदालत – खोला जायेगा और मुसलमानों के फैसले वहीँ होंगे, यानि अब सीधे आंबेडकर के संविधान और देश को चुनौती, कट्टरपंथियों ने बता दिया की ये किसी कानून संविधान से नहीं बल्कि सिर्फ शरिया से चलेंगे

 

आल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के काजी तबरेज आलम का कहना है की हर जिले में मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड शरिया अदालत खोलेगा, मुसलमानों के फैसले और सुनवाई भारत की अदालत में करने की जरुरत नहीं है, शरिया अदालत में ये फैसले किये जायेंगे

ये सीधे तौर पर भारत के संविधान और कानून को चुनौती है, कट्टरपंथी संगठन ने घोषित कर दिया की ये शरिया को मानते है न की भारत के संविधान को, और मुसलमानों के जो भी मामले है उनकी सुनवाई शरिया अदालत में होनी चाहिए, भारत के अदालतों में नहीं

हर जिले में शरिया अदालत : आज ये संविधान के खिलाफ शरिया अदालत खोलने पर आ गए है, कल ये अपने शरिया अदालत में खुद ही केस चलाकर कहेंगे की भारत को हम इस्लामिक देश घोषित करते है, ये हमारे शरिया अदालत का फैसला है, और शरिया हमारे लिए सबसे ऊपर है – ये कहकर ये गृहयुद्ध करेंगे, शरिया अदालत खोलकर ये सीधे आंबेडकर के संविधान उर भारत देश को अब चुनौती दे रहे है, संविधान को कुचलने पर अमादा हो गए है