Press "Enter" to skip to content

साईं की असलियत : साई की मार्केटिग आज से 20-25 साल पहले पर्चे बंटवाकर हुई थी

साईं की असलियत
साईं की असलियत

साईं की असलियत : साई की मार्केटिग आज से 20 – 25 साल पहले पर्चे बंटवाकर हुई थी । पर्चे लिखो और बांटों आपकी मनोकामना पूरी हो जाएगी

साईं की असलियत : आपको याद होगा तब एक नया चलन सामने आया था ..कुछ लोग जो की साईं की मार्केटिंग कागज़ के पर्चे छपवा कर करते थे …उन पर लिखा होता था की ..अगर आप इस पर्चे को पढने के बाद छपवा कर लोगों में बांटेंगे तो दस दिन के अन्दर आपको लाखों रूपये का धन अचानक मिलेगा ।

…फलाने ने 200 बांटे तो उसके मोटरसाईकिल मिली …फलाने ने 500 बांटे तो उसका खोया हुआ बेटा मिला ..फलाने को नौकरी मिली …फलाने ने 1000 छपवाकर बांटे तो उसको ….मनचाही लड़की शादी के लिए मिली …फलाने ने 5000 छपवाकर बांटे तो वह दस फैक्ट्रियों का मालिक बन गया …आदि आदि …….

और अगर किसी ने पढ़कर इसको झूठ समझा तो दस दिन के भीतर उसका लड़का मर गया …फलाने ने फाड़ा तो उसका व्यापर चौपट हो गया …फलाने ने फैंक दिया तो उसको जेल हो गयी ।

….फलाने ने झूठ माना तो उसका सारा कारोबार ..खत्म हो गया और भिखारी हो गया ………

मित्रो 1987 से 1994 तक यह बहुत चला था ….उसके बाद टी वी पर आने लगा …सीरियल बनाए जाने लगे ..फिल्में बनने लगी …..जब चैनल आये तब उन्हें कमाई की जरूरत थी …उन्हें लगा की जब पर्चे बांटकर लोग पैसा कमा सकते है तो हम क्यों नहीं कमा सकते ??

साई का प्रचार लोभ और भय दिखाकर किया गया ……..

और भोली भाली जनता एक जिहादियों की मार्केटिग के जाल में फंस गयी ।..और अपने मंदिरों का रुख छोड़कर ..साई पर धन लुटाने लगी ….

जिहादियों के आगे सर झुकाना ” वो काम जो मुगलों की लाखों हत्यारी तलवारें न करा सकीं । वो एक शिर्डी वाले साई के एक गाने ने और गपोड़ों ने कर दिया। रेले के रेले चले जा रहे हैं शिर्डी में उस मुसलमान के आगे सिजदा करने ।

मोमिन कितना ही कष्ट पा ले पर अल्लाह का दामन छोड़ने को तैयार नही होता और करोड़ों हिन्दुओं का ऐसा घोर पतन हो चुका है

More from कडवी बातMore posts in कडवी बात »
Mission News Theme by Compete Themes.