Press "Enter" to skip to content

माँ सीता व हनुमान जी का ऐसा अपमान – कानून बनाकर संजीव भट्ट को दी जानी चाहिए मौत की सजा

कानून बनाकर संजीव भट्ट को दी जानी चाहिए मौत की सजा
कानून बनाकर संजीव भट्ट को दी जानी चाहिए मौत की सजा

कांग्रेस नेता संजीव भट्ट भारत विरोधी, हिन्दू द्रोही और घृणित मानसिकता का शख्स है ये बात किसी से छिपी हुई नहीं है, पर अब इस शैतान ने जो हरकत करी है उसके लिए स्पेशल कानून बनाकर इसे मौत की सजा दी जानी चाहिए

संजीव भट्ट एक ऐसा शैतान है जो हिन्दुओ के खिलाफ जहर उगलता रहता है, ये देश भर में दंगे करवाने की फिराक में रहता है, इस घृणित कांग्रेस नेता ने अब माता सीता और हनुमान जी पर हमला किया है, और उनका ऐसा अपमान किया है की इसके लिए स्पेशल कानून बनाकर इसे फांसी पर चढाने की जरुरत है

पहले आप इसकी घृणित हरकत को देखिये

 


कह रहा है की क्या सीता इस क्रोधित हनुमान के साथ सुरक्षित महसूस करती !

आपको पहले हनुमान चालीसा की एक बात बताते है – “भूत पिसाच निकट नहीं आवे, महावीर जब नाम सुनावे”, हनुमान जी से हर तरह के शैतान, भूत, पिसाच डरते है, वो हनुमान जी को पसंद नहीं करते

हनुमान जी की रौद्र रूप वाली तस्वीर की देश के सेक्युलर और वामपंथी पहले भी आलोचना कर चुके है, चूँकि ये सब भूत पिसाच है जो हनुमान जी से डरते है, और चाहते है की हिन्दू कभी हनुमान जी जैसे रौद्र न हो जाएँ

और फिर एक बार इस घृणित कांग्रेस नेता ने हनुमान जी के इसी रौद्र रूप पर हमला करते हुए लिख दिया की – क्या सीता इस हनुमान के साथ सुरक्षित महसूस करती

पहले तो आपको बता दें की – सीता जी को हनुमान जी ने अपनी माता और गुरु दोनों का दर्जा दिया है, हनुमान चालीसा की शुरुवात होती है – “श्री गुरु चरण सरोज रज”, इसका मतलब ये है की – हनुमान जी मैं आपके गुरु सीता जी के चरण को नमन करता हूँ

दूसरी चीज ये की हनुमान जी ने सीता जी को अपनी माता बताया है, और कोई भी माता अपने पुत्र के साथ सुरक्षित महसूस कर सकती है, वैसे हम संजीव भट्ट के बारे में नहीं कह सकते की इसकी माता और इसकी बेटी, भतीजियाँ इसके साथ सुरक्षित महसूस करती है या नहीं

इस शैतान ने माता सीता और हनुमान जी पर जो हमला किया है, वो बर्दास्त करने लायक नहीं है, और इसी कारण हम तो मांग करते है की किसी भी तरह स्पेशल एक्ट, स्पेशल कानून बनाकर इस शैतान को फांसी की सजा दी जानी चाहिए, हिन्दुओ की चुप्पी के कारण ऐसे शैतान हमारी धार्मिक भावना को रोजाना कुचलने का काम करते है

कई मुस्लिम देशों में ऐसे कानून है की आप इस्लाम पर कुछ कहेंगे तो आपको मौत की सजा दी जाती है, ऐसा कानून पाकिस्तान में भी है, भारत एक हिन्दू बहुल देश है और यहाँ हिन्दुओ की भावना का सम्मान होना ही चाहिए, हमे भी ऐसे कानून की अब सख्त जरुरत है जिसके तहत भारत में कोई हिन्दू धर्म का अपमान करे तो उसे तुरंत मौत की सजा दी जानी चाहिए