Press "Enter" to skip to content

अशोक श्रीवास्तव : राष्ट्रगान के लिए खड़ा न होने वाले जिहादियों की तोड़ देनी चाहिए टाँगे

अशोक श्रीवास्तव
अशोक श्रीवास्तव

अशोक श्रीवास्तव : देश के जिहादी सिर्फ कश्मीर में ही नहीं बल्कि देश के हर शहर में है, और जिहादी क्या आजकल देश के सेक्युलर और वामपंथी भी जिहादी ही है, और ये सब देशद्रोह के काम में लगे हुए है

अशोक श्रीवास्तव  : कश्मीर में जिहादी देशद्रोह के कारनामे रोजाना ही करते है, कल ही दैनिक भारत ने आपको बताया था की कश्मीर के श्रीनगर में सेंट्रल कश्मीर यूनिवर्सिटी में जिहादियों ने राष्ट्रगान का अपमान किया

श्रीनगर की सेंट्रल कश्मीर यूनिवर्सिटी में दीक्षांत समारोह था, और कई मुस्लिम छात्र राष्ट्रगान के समय बैठे रहे ये राष्ट्रगान का अपमान करते रहे, और राष्ट्रगान के समय हँसते भी रहे, ये यूनिवर्सिटी भारतीयों के टैक्स के पैसे से चलती है

इन जिहादियों के लिए राष्ट्रगान तो हराम है, पर हमारे टैक्स के पैसे से चलने वाली यूनिवर्सिटी में पढाई करना हरम नहीं है, इसी मुद्दे पर दूरदर्शन के पत्रकार अशोक श्रीवास्तव ने उचित मांग करी

 


अशोक श्रीवास्तव ने साफ़ शब्दों में कहा की राष्ट्रगान के सम्मान के लिए जिहादियों को खड़े होने में समस्या है, ऐसे जिहादियों की टाँगे तोड़ देने में कोई हर्ज नहीं है, ताकि ये लोग हमेशा बैठे ही रहे

वैसे राष्ट्रगान का अपमान सिर्फ कश्मीर में किया जा रहा है ऐसा नहीं है, जिहादियों के अलावा वामपंथी भी ये काम बंगाल, और केरल में करते है, सबसे शर्मनाक और दुखद चीज ये है की देशद्रोहियों के खिलाफ कोई कार्यवाही नहीं होती इसी कारण इनका मनोबल बढ़ा रहता है, अगर इनके खिलाफ सख्ती नहीं की गयी तो ये समस्या नासूर बन जाएगी